राष्ट्रीय - नागरिकता संशोधन बिल पर बीजेपी में मचा अंदरुनी घमासान, सहयोगी दलों ने दिखाए तल्ख तेवर

नागरिकता संशोधन बिल पर बीजेपी में मचा अंदरुनी घमासान, सहयोगी दलों ने दिखाए तल्ख तेवर



Posted Date: 10 Jan 2019

70
View
         

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन बिल 2016 को लेकर बीजेपी में अंदरुनी घमासान मच गया है। इस बिल को लेकर उभरे मतभेदों के चलते बीजपी के सहयोगी दलों ने तल्ख तेवर दिखाए हैं। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, बीते बुधवार मेघालय सीएम कोनार्ड संगमा ने मेघालय में कहा कि हमने कैबिनेट और सरकार की तौर पर इस बिल को लेकर चिंताएं व्यक्त की हैं। बहुत पहले एक प्रस्ताव भी पास किया था। हम किसी भी तरीके से इसका समर्थन नहीं करते। गठबंधन में बहुत सारी पार्टियां हैं, भविष्य की रणनीति तय करनी होगी। हमें कैसे आगे बढ़ना है, इस पर हम फैसला करेंगे।

संगमा के अलावा बीजेपी की एक अन्य गठबंधन सहयोगी, इंडीजीनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (IPFT) ने भी बिल का विरोध किया है। IPFT के असिस्टेंट जनरल सेक्रेटरी मंगल देब बर्मा ने कहा, ‘हम लोकसभा में बिल के पास होने के मुद्दे पर मीटिंग करने जा रहे हैं और भविष्य की रणनीति तय करेंगे।

IPFT के अलावा नगालैंड में बीजेपी ने चीफ मिनिस्टर नेफ्यू रियो की नैशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (NDPP) के साथ गठबंधन किया है। सोमवार को कैबिनेट ने बैठक करके बिल पर चर्चा की। बाद में जारी प्रेस नोट में कहा गया कि कैबिनेट ने केंद्र सरकार से दरख्वास्त की है कि बिल के प्रावधानों पर दोबारा से विचार किया जाए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि यह संविधान के प्रावधानों के मुताबिक हो।

वहीं इस मसले पर मिजोरम के सीएम जोरमथंगा ने कहा कि हम लोकसभा में बिल पास होने से बेहद खफा हैं। हम उम्मीद करते हैं कि यह राज्यसभा में पास नहीं होगा। अगर ऐसा होता है तो हमें सावधानी पूर्वक अपने अगले कदम पर राय मशविरा करना होगा।

यह भी पढ़ें : ‘प्रयागराज’ के पहले कुंभ को सीएम योगी तोहफा, श्रद्धालुओं को मिला 450 साल पुराना ‘अक्षयवट’

बता दें कि ये पार्टियां बीजेपी के 11 दलों वाले नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक एलायंस (NEDA)का हिस्सा हैं। बिल के लोकसभा में पास होने के बाद इन पाटियों ने कहा है कि वे गठबंधन को लेकर भविष्य की योजना पर चर्चा करेंगे।

यह भी पढ़ें : महिला पक्ष में कोर्ट का फैसला, कहा- आत्महत्या का उकसावा नहीं पति को सरेआम थप्पड़ मारना


BY : Indresh yadav