पीएम मोदी पर गरजे कमलनाथ, बोले- 'नरेंद्र मोदी की मानसिकता मारने-काटने की'

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पीएम मोदी को लेकर बड़ा बयान दिया है। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से बीते दिनों होशंगाबाद में दिए गए बयान के जवाब में कहा है कि मोदी की मानसिकता अब मारने-काटने की हो गई है। गौरतलब हो कि पीएम मोदी ने कहा था कि ‘कांग्रेस तो अब मोदी को मारने तक के सपने देखने लगी है।'

कांग्रेस उम्मीदवार के समर्थन में यहां आयोजित एक सभा में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, “प्रधानमंत्री मोदी कहते हैं कि कांग्रेस उन्हें (मोदी) मारना चाहती है। प्रधानमंत्री जी हम कहना चाहते हैं कि मारने-काटने की मानसिकता कांग्रेस की नहीं है, यह मानसिकता तो आपकी है। जो आप यह बात कहते हैं। हम तो चाहते हैं कि मोदी को घर भेजे, वह आराम करें। आपने देश की जनता, मध्य प्रदेश की जनता को पांच साल से ठगा है। हर वर्ग को धोखा दिया है।”

यह भी पढ़ें : एयर इंडिया ने अपने 700 कर्मचारियों पर गिराई गाज, घर छोड़ने का दिया निर्देश

कांग्रेस पर हमला करते हुए मोदी ने बुधवार को होशंगाबाद के इटारसी में बिना नाम लिए नवजोत सिंह सिद्घू के विवादित बयान का जवाब देते हुए कहा था, “कांग्रेस के एक बयानवीर यहां आकर कह रहे थे कि मोदी को ऐसा छक्का मारो कि वह सीमा पार जाकर गिरे। कांग्रेस के लोग मुझसे इतनी नफरत करते हैं कि कांग्रेस अब मोदी को मारने तक के सपने देखने लगी है, मगर वे भूल रहे हैं कि मोदी की तरफ से मध्य प्रदेश की जनता, हिदुस्तान की जनता बैटिग कर रही है। अब कांग्रेस वालों को बताना चाहिए कि वे किस टीम से खेल रहे हैं। भारत की टीम से या पाकिस्तान के सरपरस्तों की टीम से। कांग्रेस यह सब सोची-समझी रणनीति के तहत कर रही है।”

किसानों की कर्जमाफी का जिक्र करते हुए कमलनाथ ने कहा, “सत्ता में आते ही कांग्रेस ने 47 लाख किसानों के कर्ज माफ करने का निर्णय लिया। 21 लाख किसानों के कर्ज माफ हो चुके हैं। सिर्फ डिफाल्टर का नहीं, बल्कि चालू खाता वाले किसानों का भी दो लाख रुपये तक का कर्ज माफ होगा। चुनाव की आचार संहिता खत्म होते ही कर्ज माफ होगा।” उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और शिवराज सिंह चौहान कहते हैं कि कर्ज माफ नहीं हुआ। चौहान ने 15 साल सिर्फ झूठ बोला है। कांग्रेस की सरकार को चौहान के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है।”

यह भी पढ़ें : 245 किमी की रफ्तार से ओडिशा पहुंचा तूफान ‘फानी’, पेड़, झोपड़ी, मकान उड़े

;
Loading...
Loading...
,