राष्ट्रीय - सबरीमाला में महिला के प्रवेश के बाद सुलग उठा केरल, बीजेपी सांसद के घर फेंका बम, 1700 गिरफ्तार

सबरीमाला में महिला के प्रवेश के बाद सुलग उठा केरल, बीजेपी सांसद के घर फेंका बम, 1700 गिरफ्तार



Posted Date: 05 Jan 2019

37
View
         

नई दिल्ली। विगत दिनों सबरीमाला मंदिर में एक महिला के प्रवेश कर जाने के बाद केरल जल उठा है। केरल में हिंसा के चलते पुलिस द्वारा करीब 1700 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। केरले में नेताओं पर हमले होने से अब यह मामला तूल पकड़ता हुआ नजर आ जा रहा है। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, शनिवार को केरल के कन्नूर जिले मं बीजेपी सांसद वी मुरलीधरन के घर पर कुछ लोगों ने देसी बम फेंक दिया गया। जिस वक्त सांसद के घर पर बम से हमला किया गया उस वक्त उनका परिवार घर के अंदर ही सो रहा था। हालांकि इस हमले में किसी तरह का कोई नुकसान न होने से एक बड़ी घटना होते-होते रह गई। घर पर हुए हमले के बाद सांसद ने सीपीएम पर आरोप लगाया है।

इससे पहले शुक्रवार को भी भाजपा तथा आरएसएस से संबधित कार्यालयों पर सीपीएम समर्थकों ने कथित हमला किया था। वहीं, स्थानीय खबरों के मुताबिक, शुक्रवार रात आरएसएस नेता चंद्रन के घर पर भी हमला किया गया।

इस तरह की घटनाओं पर केरल के डीजीपी लोकनाथ बहेरा ने बयान देते हुए कहा कि, कन्नूर जिले में हिंसा के संबंध में 33 लोगों को हिरासत में लिया गया। वहीं, पथानामथिट्टा जिले में हमलों के सिलसिले में 76 मामले दर्ज किए गए। इसके साथ ही 25 लोगों को रिमांड पर लिया गया है जबकि 204 लोगों को प्रीवेंटिव डिटेंशन किया गया है।

बता दें कि श्रीलंका की 50 साल से कम उम्र की एक महिला शुक्रवार को यहां अयप्पा मंदिर में प्रवेश कर गई थी। जिसके बाद राज्य के अलग अलग इलाकों में हिंसक घटनाएं बढ़ गईं। वहीं, हिंदुत्व समर्थक समूहों के मंच सबरीमला कर्मा समिति और अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने भगवान अयप्पा के मंदिर में दो रजस्वला महिलाओं के प्रवेश के विरोध में गुरुवार को हड़ताल का बुलाई थी।

यह भी पढ़ें : यूपी की सियासत में मची हलचल, मायावती से मिले अखिलेश, गठबंधन में कांग्रेस को लेकर...

विदित हो कि केरल का सबरीमाला मंदिर उस वक्त चर्चा में आ गया जब यहां महिलाओं के प्रवेश को लेकर कोर्ट ने मंदिर के दरवाजे खोल दिए। इससे पहले इस मंदिर में 10 से लेकर 50 वर्ष की आयु तक महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी थी। कोर्ट के फैसले के बाद भी इस मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर विवाद जारी है।

यह भी पढ़ें : लालू मकर संक्रांति घर में मनाएंगे या जेल में, जमानत पर कोर्ट सुनाएगी 11 जनवरी को फैसला


BY : Indresh yadav