राष्ट्रीय - कंपनी को राफेल में घिरता देख आगे आए एचएएल के निदेशक आर. माधवन, कहा- ‘हमें विवादों में न घसीटे’

कंपनी को राफेल में घिरता देख आगे आए एचएएल के निदेशक आर. माधवन, कहा- ‘हमें विवादों में न घसीटे’



Posted Date: 06 Nov 2018

41
View
         

नई दिल्ली। राफेल सौदे को लेकर देश की विमान निर्मता कंपनी एचएएल का नाम विवादों में आते ही कंपनी के निदेशक ने आगे बढ़कर संस्थान का बचाव किया है। हिन्दुस्तान एअरोनोटिक्स लिमिटेड के निदेशक आर. माधवन ने राफेल डील को ऑफसीट बिजनेस विवाद में घसीटे जाने पर आपत्ति जताई है।

आर माधवन ने कहा कि, “एचएएल ऑफसेट बिजनेस में नहीं है और न ही एचएएल राफेल डील के ऑफसेट बिजनेस का कॉन्ट्रैक्ट पाने के लिए बतौर दावेदार शामिल भी नहीं हुई थी।” एक अखबार की खबर के मुताबिक माधवन ने कहा कि एचएएल ने अपने कर्मचारियों को भी निर्देश दिए हैं कि वह इस मुद्दे पर किसी राजनैतिक पार्टी के साथ शामिल ना हों, क्योंकि इससे कंपनी की छवि पर नकारात्मक असर पड़ेगा।

आपको बता दें कि विपक्षी पार्टियां राफेल सौदे में कथित घोटाले को लेकर लगातार सरकार पर हमला बोल रही है। विपक्षी पार्टियां आरोप लगा रही हैं कि राफेल सौदे में ‘ऑफसेट बिजनेस’ का कॉन्ट्रैक्ट एचएएल को नहीं दिया गया है।

यह भी पढ़ें :त्रेतायुग के बाद इस बार अयोध्या में दिखेगा दिवाली का भव्य रुप, सीएम योगी बनाएंगे कई रिकार्ड

कंपनी के निदेशक माधवन ने कहा कि संदेश साफ है कि इस पूरे विवाद में एचएएल को ना घसीटा जाए। हमारा काम अपने प्रोडक्शन को बढ़ाना है। हमारी यूनियन ने भी अपने बयान में साफ कर दिया है कि वह इस मामले में कोई पार्टी के साथ नहीं है। उन्होंने साफ कहा कि “उनका बिजनेस मैन्यूफैक्चरिंग है, ना कि ऑफसेट।”

यह भी पढ़ें :भाजपा के काफिले पर हमला, समर्थकों से की मारपीट, तोड़ी गाड़ियां

पिछले दिनों एचएएल की क्षमता को लेकर मीडिया में उठ रहे सवालों पर आर. माधवन ने कहा कि तकनीकी तौर पर एचएएल की क्षमता पर सवाल खड़े नहीं किए जा सकते। एचएएल ही भारतीय वायुसेना के 75 प्रतिशत फ्लाइंग इक्विपमेंट्स की मेंटिनेंस का काम देखती है। फिलहाल एचएएल प्राइवेट सेक्टर की लार्सन एंड टर्बो, VEM टेक्नोलजीज, अल्फा डिजाइन और डाइनामेटिक्स आदि कंपनियों के साथ मिलकर लाइट कॉम्बैट एअरक्राफ्ट के निर्माण पर फोकस कर रही है।


BY : Yogesh


Loading...