आजमगढ़ - बारिश होने से ठिठुरन और बढ़ी, किसी के लिए सोना बनकर आयी तो किसी की मेहनत पर पानी फिरा

बारिश होने से ठिठुरन और बढ़ी, किसी के लिए सोना बनकर आयी तो किसी की मेहनत पर पानी फिरा



Posted Date: 08 Jan 2019

31
View
         

आज़मगढ़। सर्दी की ठिठुरन अभी थमी भी नहीं थी कि बीती रात बारिश ने गलन और बढ़ा दी। इसके चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। पहले से ही बदहाल बिजली व्यवस्था को झेल रहे शहरियों को बिजली ने और रुलाया। मौसम खराब होने से देहात और शहरी क्षेत्र में कई स्थानों पर रात भर बिजली भी गुल रही।

लोग घरों में कैद रहे, बूंदाबांदी के कारण पारा और नीचे लुढ़क गया। हालांकि गेहूं किसानों के लिए यह बारिश आसमान से सोना बनकर गिरी तो वहीं, दलहन और तिलहन की फसलों को नुकसान पहुंचा है और इसकी खेती करने वाले किसानों के लिए समस्या खड़ी हो गयी है। चकिया में खेत में बिजली गिरने से एक व्यक्ति की भी मौत हो गयी।

पूरे पूर्वाचंल में बारिश होने के कारण सर्दी और बढ़ गयी है जिससे पारा और नीचे लढ़क गया है। मऊ में शीतलहर का प्रकोप जारी रहने से आम लोगों की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही है। तेज हवा के साथ बूंदाबांदी हुई। सोमवार की सुबह बादलों के बीच भगवान भाष्कर का उदय हुआ। गरज तड़प के साथ बूंदबांदी हुई। दिन भर लोग अपने शरीर को गर्म कपड़ों से ढ़के रहे। इसके बाद भी ग्रामीण इलाकों में अलाव नहीं जलवाए जा सके हैं।

यह भी पढ़ें.. कुंभ में चालकों की चांदी, परिवहन विभाग दे रहा कपड़ा साथ में रुपए भी

गाजीपुर में पिछले कई दिनों से ठंड का प्रभाव जारी है। इससे राहत के लिए लोग तरह-तरह के जतन कर रहे हैं। इसी बीच देर रात से सुबह तक गरज के साथ रूक-रूक कर हुई बूंदाबांदी ने सर्दी की बेदर्दी को और बढ़ा दिया। बदली और सर्द हवाओं के बीच लोग गलन तथा ठंड से ठिठुरते हुए कांपते रहे। 

सोनभद्र में रात में तड़क-गरज के साथ बारिश के साथ कहीं-कहीं ओले भी पड़ें। इससे ठंड ने विकराल रूप धारण कर लिया है। गलन ने लोगों को बेहाल करके रख दिया है। सोमवार को पूरे दिन सूर्यदेव के दर्शन नहीं हुए। स्कूलों में बच्चे ठिठुरते रहे। 

यह भी पढ़ें.. इंसानियत हुई फिर से शर्मसार, जिले में मंदबुद्धि बच्ची के साथ हुआ रेप


BY : Saheefah Khan