राष्ट्रीय - बीजेपी सांसद के विवादित बोल, कहा- तनख्वाह से कोई अपना चुनाव क्षेत्र नहीं चला सकता, चोरी तो...

बीजेपी सांसद के विवादित बोल, कहा- तनख्वाह से कोई अपना चुनाव क्षेत्र नहीं चला सकता, चोरी तो...



Posted Date: 07 Jan 2019

40
View
         

नई दिल्ली। बीजेपी सांसद ने अपनी तनख्वाह को लेकर विवादित बयान देकर एक नई बहस को जन्म दे दिया है। बस्ती के जिला पंचायत सभागार में आयोजित युवा संवाद में बोलते हुए बस्ती से ही लोककसभा सीट से बीजेपी सांसद हरीश द्विवेदी ने अपने वेतन को लेकर बयान दिया। इस दौरान यहां मौजूद एक युवक द्वारा सवाल पूछने पर बीजेपी सांसद का अपने वेतन को लेकर दर्द छलक उठा।

इस दौरान बोलते हुए उन्होंने कहा कि एक सांसद को बारह कर्मचारियों की आवश्यकता है, लेकिन वेतन वरिष्ठ प्राइमरी के अध्यापक से भी कम है तो चोरी तो करनी ही पड़ेगी। इतना ही नहीं उन्होंने पार्टी के बड़े नेताओं से इस विषय पर चर्चा भी करने की बात कही, इसके साथ ही द्विवेदी ने केजरीवाल सरकार द्वारा विधानसभा में भत्ते बढ़ाने की प्रशंसा भी की। इस मौके पर जिलाधिकारी राजशेखर और सदर विधानसभा सीट के विधायक दयाराम चौधरी भी मौजूद रहे।

बीजेपी सांसद हरीश द्विवेदी ने पार्लियामेंट्री सिस्टम पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि सांसदों को मिलने वाले वेतन से कोई सांसद और मंत्री अपना चुनाव क्षेत्र नहीं चला सकता है। उन्होंने कहा कि चुनाव क्षेत्र चलाने के लिए सांसद और मंत्रियों को धन प्राप्ति के लिए अन्य उपाय करने पड़ते हैं।

जानिए सांसदों को मिलने वाली सुविधाओं और पैसे का पूरा लेखा-जोखा

लोकसभा और राज्यसभा के सांसद कार्यकाल के दौरान 50 हजार रुपये का वेतन मिलता है।

अगर सांसद की कार्यवाही के दौरान उसमें शामिल होते हैं, और रजिस्टर में हस्ताक्षर करते हैं तो उन्हें 2000 रुपये हर रोज का भत्ता मिलता है।

एक सांसद अपने क्षेत्र में कार्य कराने के लिए 45000 रुपये प्रतिमाह भत्ता पाने का हकदार होता है।

कार्यालयीन खर्चों के लिए एक सांसद को 45000 रुपये प्रतिमाह मिलता है. इसमें से वह 15 हजार रुपये स्टेशनरी पर खर्च कर सकता है। इसके अलावा अपने सहायक रखने पर सांसद 30 हजार रुपये खर्च कर सकता है।

सांसद निधि (मेंबर ऑफ पार्लियामेंट लोकल एरिया डेवलपमेंट) स्कीम के तहत सांसद अपने क्षेत्र में 5 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष का खर्च करने की सिफारिश कर सकता है।

सांसदों को हर तीन महीने में 50 हजार रुपये यानी करीब 600 रुपये रोज घर के कपड़े धुलवाने के लिए मिलते हैं।

यह भी पढ़ें : 2019 लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी-शिवसेना आमने-सामने, शाह के वार पर ठाकरे ने किया पलटवार

सांसदोंको हवाई यात्रा का 25 प्रतिशत ही देना पड़ता है. इस छूट के साथ एक सांसद सालभर में 34 हवाई यात्राएं कर सकता है. यह सुविधा पति/पत्नी दोनों के लिए है।

ट्रेन में सांसद फर्स्ट क्लास एसी में अहस्तांतरणीय टिकट पर यात्रा कर सकता है। उन्हें एक विशेष पास दिया जाता है।

एक सांसद को सड़क मार्ग से यात्रा करने पर 16 रुपये प्रतिकिलोमीटर यात्रा भत्ता मिलता है।

यह भी पढ़ें : किसानों के मुद्दे पर वरुण गांधी का सवाल, देश में किसानों की ऐसी हालत क्यों हैं?


BY : indresh yadav