राष्ट्रीय - लंगोट से कोट, सब है उपलब्ध रामदेव के ‘परिधान स्टोर’ में

लंगोट से कोट, सब है उपलब्ध रामदेव के ‘परिधान स्टोर’ में



Posted Date: 05 Nov 2018

63
View
         

नई दिल्ली। देश भर में स्वदेशी वस्तुओं के इस्तेमाल को लेकर आंदोलन चलाने वाले बाबा रामदेव ने अब कपड़ों का स्टोर भी खोल  दिया है। इसे बाब रामदेव ने ‘परिधान स्टोर’ का नाम दिया है। देश में पतंजलि के पहले ‘परिधान स्टोर’ का उद्घाटन खुद बाबा रामदेव ने किया।

पतंजलि ने धनतेरस के मौके पर दिल्ली के पीतमपुरा में देश का पहला परिधान स्टोर खोला। इसका उद्घाटन खुद बाबा रामदेव ने किया। स्टोर के उद्घाटन में बाबा रामदेव ने खुद हर एक वेरायटी के कपड़ों को मीडिया के सामने दिखाया। इस मौके पर उनके साथ पहलवान सुशील कुमार मोदी और फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर भी मौजूद थे।

आपको बता दें कि इस स्टोर में 3500 वेरायटी के कपड़े उपलब्ध हैं। इसमें किड्सवेयर से लेकर महिलाओं के कपड़े, पुरुषों के सभी कपड़े, योगा वेयर, फेंसी ड्रेस भी शामिल हैं। खास बात कि इस स्टोर में लंगोट से लेकर पार्टी वियर कपड़े सब उपलब्ध है। इसके अलावा यहां आभूषण भी उपलब्ध हैं।

ये स्टोर पूरी तरह से स्वदेशी है। सभी कपड़े भारतीय परंपरा और संस्करों को ध्यान में रखकर बनाए जाते हैं। एक अखबार की खबर के मुताबिक बाबा रामदेव ने कहा कि दिसंबर तक देशभर में करीब 25 नए स्टोर खोले जाएंगे। दिवाली पर 25 प्रतिशत की छूट भी दी जाएगी।

रामदेव ने कहा कि पतंजलि हर वो प्रोडक्ट बनाएगी जिसे विदेशी कंपनियां भारत में धड़ल्ले से बेच रही हैं। मेड इन इंडिया के उद्देश्य से प्रोडक्ट्स बनाने में लगे बाब रामदेव पहले से ही भारतीय मार्केट में छाए हुए हैं।

यह भी पढ़े: गोवा में बीजेपी नेता के समर्थक फैला रहे अराजकता, महिला कांग्रेस नेता को मिली गैंगरेप की धमकी

बालकृष्ण ने बताया कि कपड़ा उद्योग का सारा काम नोएडा से संचालित होगा। इसके लिए टीम पहले ही बनाई जा चुकी है। कंपनी की तरफ से जारी बयान में बताया गया है कि कपड़ों का निर्माण किसी थर्ड पार्टी से करवाया जाएगा।

यह भी पढ़ें : MP: विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की दूसरी लिस्ट, 17 उम्मीदवारों के नाम घोषित

आपको बता दें कि हाल ही में पतंजलि ने डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे गाय का दूध, छाछ, पनीर, गाय का चारा, पीने का पानी समेत कई अन्य चीजें बाजार में लॉन्च की थी। जो ग्राहकों को खूब भा रही हैं।


BY : Yogesh Mishra


Loading...