राष्ट्रीय - अदालत ने माल्या को देश का पहला भगोड़ा आर्थिक अपराधी किया घोषित, ED कर सकेगी संपत्ति जब्त

अदालत ने माल्या को देश का पहला भगोड़ा आर्थिक अपराधी किया घोषित, ED कर सकेगी संपत्ति जब्त



Posted Date: 05 Jan 2019

40
View
         

मुंबई। मुंबई की एक अदालत ने शनिवार को फरार चल रहे शराब कारोबारी विजय माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून 2018 के तहत भगोड़ा करार दिया है, जोकि जांच एजेंसियों की एक बड़ी जीत है। मुंबई स्थित धनशोधन निवारक अधिनियम (पीएमएलए) की विशेष अदालत ने पिछले साल जून में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा दाखिल एक मुकदमे में आदेश दिया है।

एफईओए के तहत अपने तरह के पहले मामले में पिछले साल 22 जून को ईडी ने विशेष पीएमएलए अदालत से माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने की मांग की थी, ताकि उसकी अनुमानित 12,000 करोड़ रुपये से अधिक की सारी जायदाद अधिनियम के तहत जब्त की जाए।

इस कानून में जांच एजेंसियों को एफईओए के तहत दर्ज अपराधी की सारी संपत्तियां जब्त करने का अधिकार है। अब कर्नाटक, इंग्लैंड और अन्य जगहों की विजय माल्या से जुड़ी संपत्तियां ईडी कुर्क कर सकता है।

बता दें कि ईडी ने 62 साल के विजय माल्या को भगोड़ा घोषित कर रखा है। वो पिछले कुछ वर्षों से ब्रिटेन में निर्वासित रह रहा है और फिलहाल जमानत पर बाहर है। लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने पिछले दिनों उसके प्रत्यर्पण के लिए मंजूरी दी थी। हालांकि उसके पास इसके खिलाफ अपील करने के लिए जनवरी तक का समय है।

बता दे कि माल्या पर देश के बैंकों का लगभग 9400 करोड़ रुपए कर्ज है। उसके खिलाफ 17 बैंकों के कंसोर्शियम ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी। माल्या की तरफ से कहा गया है कि तेल (एटीएफ) के दाम बढ़ने, ज्यादा टैक्स और खराब इंजन के चलते उनकी किंगफिशर एयरलाइन्स को 6,107 करोड़ का घाटा उठाना पड़ा था। हालांकि वो अभी करीब 1800 करोड़ रुपए के विलफुल डिफॉल्टर हैं। बाकी बैंक अब भी माल्या के खिलाफ कोर्ट नहीं गए हैं।

Also Read-


BY : ANKIT SINGH