अंतरराष्ट्रीय - पुतिन और नेतन्याहू के बीच हुई टेलीफोन वार्ता, सीरीया मुद्दे पर समन्वय जारी रखने पर बनी सहमति

पुतिन और नेतन्याहू के बीच हुई टेलीफोन वार्ता, सीरीया मुद्दे पर समन्वय जारी रखने पर बनी सहमति



Posted Date: 05 Jan 2019

38
View
         

जेरूसलम इजारायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने शुक्रवार को रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन संग टेलीफोन वार्ता की। इस दौरान नेतन्याहू और पुतिन के बीच सीरीया मुद्दे को लेकर चर्चा हुई, जहां दोनों नेताओं ने इस मुद्दे पर समन्वय जारी रखने पर सहमति जताई है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, नेतन्याहू और पुतिन ने टेलीफोन वार्ता के दौरान सीरिया के अलावा हाल के घटनाक्रमों पर भी चर्चा की। दोनों नेताओं ने इजरायल और रूसी सेनाओं के मध्य समन्वय जारी रखने पर सहमति व्यक्त की। बातचीत के दौरान, नेतन्याहू ने कहा कि सीरिया में ईरान को सैन्य स्तर पर घुसने से रोकने के लिए अपने प्रयासों को जारी रखने को लेकर इजरायल दृढ़ प्रतिज्ञ है।

इस बीच, इजरायल में रूसी दूतावास ने अपने ट्विटर अकाउंट पर कहा कि नेतन्याहू और पुतिन के बीच वार्ता के दौरान सीरिया की स्थिति और अमेरिका द्वारा वहां से अपने सैनिकों को हटाने का फैसला बातचीत के केंद्र में रहा। रूसी दूतावास ने कहा कि दोनों नेताओं ने आतंकवाद को हराने और सीरिया में एक राजनीतिक समाधान का रास्ता निकालने की आवश्यकता पर जोर दिया।

यह भी पढे़ं.. अमेरिका में आंशिक कामबंदी पर ट्रंप का बड़ा बयान, कर सकते हैं राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा

गौरतलब हो कि बीते दिनों ईरान ने सीरीया में स्थित अपने सभी सैन्य सलाहकारों को वापस वतन बुला लिया था। ईरानी राजदूत इराज मस्जेदी ने इस बात की पुष्टी करते हुए अमेरिका पर आरोप भी लगाया था।

मस्जेदी ने कहा था कि  ‘ईरान के विपरीत, अमेरिकी सेना आईएस के अंत के बावजूद वहां ठहरी हुई है और वहां नए सैन्य मुख्यालय बना रही है। ईरानी राजदूत ने क्षेत्र में अमेरिकी सेना की मौजूदगी को गलत बताया है। उन्होंने कहा कि अपनी रक्षा के लिए क्षेत्रीय देशों के पास पर्याप्त स्थानीय बल है। ऐसे में अमेरिकी की कूटनीति से अस्थिरता का संकट खड़ा होगा। इससे शांति के लिए किया गया हर प्रयास असफल होगा।’

यह भी पढ़ें.. गेमिंग के शौक ने दिए शोहरत के पंख, साल की कमाई हुई 70 करोड़ रुपए

बता दें कि सीरीया में पिछले कई वर्षों से आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) का दहशत है। इसके खात्मे के लिए रुस, इज़रायल, अमेरिका सहित कई देश कोशिश कर रहे हैं।


BY : shashank pandey