खेल - पोंटिंग ने भी माना ऋषभ पंत का लोहा, कहा- उनमे दिखती है गिलक्रिस्ट की झलक, निकलेंगे धोनी से आगे

पोंटिंग ने भी माना ऋषभ पंत का लोहा, कहा- उनमे दिखती है गिलक्रिस्ट की झलक, निकलेंगे धोनी से आगे



Posted Date: 05 Jan 2019

42
View
         

सिडनी। आस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने भारत के युवा विकेटकीपर ऋषभ पंत की तारीफ करते हुए उन्हें दूसरा एडम गिलक्रिस्ट बताया है। 21 वर्षीय पंत ने सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) में आस्ट्रेलिया के साथ जारी चौथे टेस्ट मैच की पहली पारी में नाबाद 159 रन बनाए। वह आस्ट्रेलियाई धरती पर शतक लगाने वाले भारत के पहले विकेटकीपर हैं।

पोंटिंग ने क्रिकेट डॉट काम डॉट ए यू से कहा, वह वास्तविक प्रतिभा के धनी है और गेंद पर अच्छी तरह से प्रहार करते हैं। वह वास्तव में खेल की अच्छी समझ रखते हैं। वह पहले ही टेस्ट में दूसरा शतक लगा चुके हैं और कई बार 90 के आसपास रन बना चुके हैं।

पंत ने नौ टेस्ट मैचों में अब तक 49.71 के औसत से रन बनाए हैं। इस सीरीज में उनके अब 350 रन हो गए हैं और वह सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में चेतेश्वर पुजारा (521) के बाद दूसरे नंबर पर पहुंच गए हैं।

उन्होंने कहा, वह ऐसे खिलाड़ियों में शामिल हैं जो तीनों प्रारूपों में भारत के लिए काफी क्रिकेट खेल सकते हैं। वह अभी केवल 21 साल के हैं और उनका यह नौंवा टेस्ट हैं, इसलिए उन्हें लंबे समय तक क्रिकेट खेलना चाहिए।

पोंटिंग का मानना है कि पंत पूर्व विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी की तुलना में टेस्ट मैचों में अधिक शतक लगाएंगे।पोंटिंग ने कहा, उन्हें (पंत को) अपनी विकेटकीपिंग पर थोड़ा मेहनत करने की जरूरत है और वह बेहतर बल्लेबाज भी बनेंगे। हम धोनी और भारतीय क्रिकेट पर उनके प्रभाव के बारे में बात करते हैं।

पंत इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में दिल्ली कैपिटल्स केपिटल्स (पहले दिल्ली डेयरडेविल्स) के लिए खेलते हैं और पोंटिंग भी उसी टीम के कोच हैं।

जिस विवाद ने ली कोच रमेश पोवार की बलि, उस पर फिर से बोली हरमनप्रीत, कहा...

पूर्व कप्तान ने कहा, उन्होंने (धोनी ने) भारत की तरफ से काफी टेस्ट मैच खेले लेकिन केवल छह टेस्ट शतक लगाए। यह युवा (पंत) उनसे अधिक टेस्ट शतक लगाएंगे। हम कमेंट्री बॉक्स में उसके बारे में बात कर रहे थे और वह दूसरे एडम गिलक्रिस्ट की तरह है।

सचिन पर टूटा दुखों का पहाड़, इस बेहद करीबी शख्स ने छोड़ा साथ


BY : ANKIT SINGH