राजनीति - रालोद मुखिया चौधरी अजीत सिंह के विवादित बोल, मोदी-योगी की तुलना बैल-बछड़े से कर डाली, स्मृति ईरानी को बताया...

रालोद मुखिया चौधरी अजीत सिंह के विवादित बोल, मोदी-योगी की तुलना बैल-बछड़े से कर डाली, स्मृति ईरानी को बताया...



Posted Date: 11 Jan 2019

40
View
         

नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों की आहट के चलते लगभग सभी दलों के नेता सक्रिय हो गए हैं। ऐसे में रालोद मुखिया चौधरी अजीत सिंह ने बीते गुरुवार विवादित बयान देते हुए नई बहस को जन्म दे दिया। पश्चिमी यूपी के मथुरा के कोसीकलां में एक रैली को संबोधित करते हुए सिंह ने पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ की तुलना बैल और बछड़े से कर डाली। अजीत सिंह यहीं नहीं रुके इसके अलावा उन्होंने बीजेपी सरकार में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की तुलना हट्टी-कट्टी गाय से कर डाली।

एनबीटी की एक खबर के अनुसार, अपने भाषण के दौरान चौधरी अजीत सिंह ने कहा कि आजकल देख रहा हूं कि आप लोग गाय, बैल और बछड़ों को स्कूल कॉलेज में बंद कर रहे हो। कुछ लोग कहते हैं कि ये मोदी-योगी घूम रहे हैं, ये बात सच है क्या? अजीत सिंह ने आगे कहा कि कुछ लोग तो कहते हैं कि हट्टी-कट्टी गाय आ गई, देखों स्मृति ईरानी भी घूम रही हैं।

पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए अजीत सिंह ने कहा कि 70 साल में किसी प्रधानमंत्री ने काम नहीं किया, केवल मोदी ने ही काम किया है। आगामी लोकसभा चुनावों को लेकर रालोद मुखिया बोले कि आपको मौका मिलने वाला है, प्रजातंत्र में यही खूबी है, यदि प्रधानमंत्री गलत मिल जाए तो 5 साल में उसकी छुट्टी कर देने का अधिकार भी आपके पास है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा और रालोद के बीच गठबंधन की बातें कही जा रही हैं। ऐसी अपुष्ट खबरें आयी हैं कि तीनों पार्टियों के बीच सीटों के कथित बंटवारें के तहत सपा-बसपा 37-37 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी, वहीं रालोद को 2 सीटें दी गई हैं। ये भी खबर आयी थी कि रालोद ने गठबंधन के तहत खुद के लिए 5 लोकसभा सीटों की मांग की है। अब इस मुद्दे पर जब चौधरी अजीत सिंह से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि अभी सीटों को लेकर कोई बात नहीं हुई है, केवल मुलाकात हुई है।

यह भी पढ़ें : 24 घंटे के अंदर ही आलोक वर्मा की हो गई पद से छुट्टी, बोले- फर्जी आरोपों के आधार पर किया...

आरएलडी मुखिया अजीत सिंह के साथ इस रैली में कैराना से पार्टी की सांसद तबस्सुम हसन, राजस्थान सरकार में मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग आदि नेता भी मौजूद थे। इस दौरान रालोद मुखिया ने केन्द्र की एनडीए सरकार पर जमकर हमला बोला।

वहीं इस बीच ऐसी खबरें भी आ रही हैं कि आगामी 12 जनवरी को बसपी मुखिया मायावती और समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव अपने गठबंधन का आधिकारिक रुप से ऐलान कर सकते हैं। सूबे में सपा-बसपा के गठबंधन से राजनीतिक गलियारों में हलचल मची हुई है।

यह भी पढ़ें : CBI विवाद : सुब्रमण्यम स्वामी ने CVC जांच पर उठाए सवाल, कहा- मोदी को मिला गलत सुझाव- इसकी जांच हो


BY : Indresh yadav