कारोबार - गिरावट के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स समेत निफ्टी ढलान पर

गिरावट के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स समेत निफ्टी ढलान पर



Posted Date: 10 Jan 2019

52
View
         

नई दिल्ली। देश के शेयर बाजार गुरुवार को गिरावट के साथ खुले। इस दौरान सेंसेक्स समेत निफ्टी में गिरावट दर्ज की गई। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 45 अंकों की गिरावट के साथ जहां एक तरफ 36,258 पर खुला तो वहीं दूसरी तरफ निफ्टी यानि कि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज 4 अंकों की गिरावट के साथ 10,859 पर खुला।

इससे पहले शेयर बाजार के शुरुआती कारोबार में बुधवार को तेजी का रुझान देखा गया था। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 10.22 बजे 193.96 अंकों की बढ़त के साथ 36,174.89 पर और निफ्टी भी लगभग इसी समय 47.10 अंकों की मजबूती के साथ 10,849.25 पर कारोबार करते देखे गए थे।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सुबह 200.44 अंकों की मजबूती के साथ 36,181.37 पर, जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 60.25 अंकों की बढ़त के साथ 10,862.40 पर खुला था।

इस दौरान बीएसई पर टाटा मोटर्स के शेयर 182.50 (1.76 फीसदी), ऐक्सिस बैंक 661.10 (1.57 फीसदी), टीसीएस 1913.45 (1.08 फीसदी), मारुति 7501.45 (1.08 फीसदी), और सनफार्मा 450.85 (0.83 फीसदी) की तेजी के साथ खुले थे। वहीं आईसीआईसीआई बैंक 380 अंक (0.03 फीसदी), एचसीएल टेक 944.45 (0.04 फीसदी), बजाज ऑटो 2689 (0.4 फीसदी) और एशियन पेंट्स, हीरोमोटोको में गिरावट दर्ज की गई थी।

निफ्टी के 50 शेयरों में भारती एयरटेल 332.35 (0.94%), टाटा मोटर्स 181.50 (0.86%), हिंडालको 208.25 (0.85%) में तेजी देखी गई तो टाटा स्टील, बीपीसीएल, आईओस और आइसर मटोर्स में गिरावट दर्ज की गई थी।

वहीं भारतीय मुद्रा रुपये में डॉलर के मुकाबले पिछले सत्र से बढ़त देखी जा रही है। रुपया बुधवार को डॉलर के मुकाबले पिछले सत्र से 15 पैसे की बढ़त के साथ 70.05 पर खुला। पिछले सत्र में रुपये में कमजोरी आई थी, जिसकी मुख्य वजह अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल में आई तेजी रही है।

यह भी पढ़ें : नए साल में आम जनता को झटका! इस वजह से बढ़ सकती है महंगाई

उधर, दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर की ताकत का सूचकांक डॉलर इंडेक्स बुधवार को फिर 0.11 अंक नीचे फिसलकर 95.377 के स्तर पर आ गया। दरअसल, इन छह मुद्राओं के समूह में सबसे अधिक भारांक वाली मुद्रा यूरो और आस्ट्रेलियन डॉलर व ब्रिटिश पौंड में डॉलर के मुकाबले मजबूती रही, जबकि जापानी येन में कमजोरी दर्ज की गई।

यह भी पढ़ें : वित्तीय संकट से जूझ रहा HAL : कर्मचारियों को वेतन देना हुआ मुश्किल, बैंक से लिया 962 करोड़ का ओवरड्राफ्ट


BY : Indresh yadav