राष्ट्रीय - महिला पक्ष में कोर्ट का फैसला, कहा- आत्महत्या का उकसावा नहीं पति को सरेआम थप्पड़ मारना

महिला पक्ष में कोर्ट का फैसला, कहा- आत्महत्या का उकसावा नहीं पति को सरेआम थप्पड़ मारना



Posted Date: 10 Jan 2019

53
View
         

नई दिल्ली। उच्च न्यायालय ने पति-पत्नी संबध पर एक दिलचस्प फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा है कि अगर पति पत्नी में विवाद बढ़ जाता है और पत्नी पति पर अटैक कर देती है तो यह खुदकुशी के लिए प्रेरित करने का मामला नहीं माना जाएगा। क्योंकि ऐसे आचरण से कोई आत्महत्या के लिए नहीं सोच सकता।

दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा कि कोई महिला अगर दूसरों के सामने पति को थप्पड़ मारे, तो सिर्फ इस एक घटना को आत्महत्या के लिए उकसावा नहीं मान सकते। पति को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप से महिला को बरी करते हुए हाईकोर्ट ने यह टिप्पणी की।

जस्टिस संजीव सचदेवा ने कहा, सामान्य हालात में दूसरों के सामने थप्पड़ मारे जाने से कोई व्यक्ति आत्महत्या की नहीं सोचेगा। अगर थप्पड़ मारने को उकसावा मानते हैं तो ध्यान रखें कि यह आचरण ऐसा होना चाहिए जो किसी सामान्य विवेकशील इंसान को आत्महत्या की ओर ले जाए।’

यह भी पढ़ें.. सेना प्रमुख : ‘सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने का जरिया बन रहा, आतंकवाद कई सिर वाले राक्षस की तरह’

कोर्ट ने कहा कि महिला के खिलाफ कार्रवाई जारी रखने का कोई आधार नहीं है। उसके खिलाफ शुरू केस का कोई परिणाम नहीं निकलेगा। सिर्फ प्रताड़ित करना होगा। हाईकोर्ट ने कहा कि ट्रायल कोर्ट द्वारा आईपीसी की धारा 396 के तहत महिला के खिलाफ प्रथम दृष्टया सबूत मौजूद होने की बात कहना पूरी तरह गलत है।  

अभियोजन पक्ष के अनुसार 2 अगस्त, 2015 को महिला के पति ने आत्महत्या का प्रयास किया और उसके अगले दिन अस्पताल में मौत हो गई। सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने पत्नी के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज किया था। ट्रायल कोर्ट ने पाया कि महिला ने 31 जुलाई, 2015 को पति को सबके सामने थप्पड़ मारा था और 2 अगस्त को उसने आत्महत्या का प्रयास किया।

महिला के ससुर ने आरोप लगाया था कि बेटे ने पत्नी की वजह से आत्महत्या की थी। हाईकोर्ट ने कहा कि सुसाइड नोट में थप्पड़ मारने की घटना का जिक्र नहीं था।

यह भी पढ़ें.. राम मंदिर पर नहीं निकल सका कोई हल, 29 जनवरी तक के लिए टला मामला


BY : Saheefah Khan