राष्ट्रीय - सबरीमाला प्रदर्शन की आंच में घी डाल गया बीजेपी प्रमुख का आडियो! सियासी गलियारों में घमासान

सबरीमाला प्रदर्शन की आंच में घी डाल गया बीजेपी प्रमुख का आडियो! सियासी गलियारों में घमासान



Posted Date: 06 Nov 2018

54
View
         

नई दिल्ली। बीते दिन यानी सोमवार को सबरीमाला मंदिर का मुख्य द्वारा खुलने के साथ एक बार फिर महिलाओं और उनके समर्थकों का जोरदार प्रदर्शन हुआ। वहीं इस मामले में गरमाहट तब और बढ़ चली, जब केरल के बीजेपी प्रमुख पी एस श्रीधरन पिल्लई का एक कथित आडियो क्लिप सामने आया। इस वीडियों क्लिप के सामने आने के बाद केरल के सीएम और सीपीएम नेता पी. विजयन ने भजपा पर जमकर हमला किया।

खबरों के मुताबिक़ एक ऑडियो टेप सामने आया है जिसमें केरल बीजेपी प्रमुख पी एस श्रीधरन पिल्लई कथित तौर पर पार्टी के यूथ विंग के कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि प्रदर्शनों के पीछे बीजेपी थी।

ऑडियो पिल्लई यह दावा करते हुए भी सुनाई देते हैं कि उन्होंने मंदिर के तंत्री या मुख्य पुजारी कंडारू राजीवारू को सलाह दी थी कि मंदिर के गर्भगृह का दरवाजा ‘बंद’ करवाना ‘कोर्ट की अवमानना नहीं है।’

बता दें कि पिछले महीने हुए प्रदर्शनों के बीच तंत्री ने धमकी दी थी कि अगर 10 से 50 साल की उम्र की महिलाओं ने घुसने की कोशिश की तो वह गेट बंद करवा देंगे।

दरअसल पिल्लई रविवार को कोझीकोड में भारतीय जनता युवा मोर्चा की एक बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने अपने बयान का यह कहते हुए बचाव किया है कि ‘सलाह देने में कोई हर्ज नहीं है।’

हालांकि, केरल के सीएम और सीपीएम नेता पी विजयन ने बीजेपी को निशाने पर लिया। वहीं, सीपीएम के राज्य सचिव कोडियेरी बालाकृष्णन ने बीजेपी प्रमुख की टिप्पणी के मामले में ‘उच्च स्तरीय जांच’ की मांग की।

वहीं, पिल्लई की टिप्णी पर विजयन ने टि्वटर पर लिखा कि सबूत सामने आए हैं कि बीजेपी नेताओं ने सबरीमाला में मुश्किलें पैदा करने की साजिश रची। यह ध्यान दिए जाने योग्य है कि उनके राज्य प्रमुख भी इसमें शामिल हैं। बता दें कि सोमवार को ही मंदिर दो दिनों के लिए खुला है।

बता दें कथित ऑडियो क्लिप में पिल्लई कहते हुए सुनाई देते हैं, ‘हमने जो एजेंडा सामने रखा, हर किसी ने उसे फॉलो किया। हमारे सामने हार मानने के बाद सभी एक के बाद एक मौके से निकल गए।…मलयालम महीने में हुए प्रदर्शन की योजना अधिकतर बीजेपी की थी।’ बता दें कि पिछले महीने दो महिलाएं मंदिर के नजदीक पहुंच गई थीं।

तंत्री के कॉल का जिक्र करते हुए पिल्लई ने कहा, ‘तंत्री ने जब मुझे कॉल किया तो उसने पूछा कि दरवाजा बंद करना सुप्रीम कोर्ट की अवमानना नहीं होगी? लेकिन मैंने उन्हें बताया कि यह कोर्ट की अवमानना नहीं है और अगर अदालत अवमानना में कोई ऐक्शन लेने का फैसला करता है तो वह सबसे पहले हमारे खिलाफ होगा। तंत्री, आप अकेले नहीं हो, यहां हजारों लोग हैं। मैंने उनसे ऐसा कहा। उन्होंने मुझसे कहा कि उन्हें मेरी बातों का भरोसा है।’

यह भी पढ़ें : PNB Scam : मेहुल चोकसी पर ED का शिकंजा, मिली बड़ी सफलता, गिरफ्तार...

पिल्लई से जब उनके कथित टिप्पणी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘यह एक सार्वजनिक संबोधन था और बयानों में कुछ भी विवादास्पद नहीं है। मैं एक वकील हूं और मंदिर के पुजारी समेत बहुत सारे लोग कानूनी सलाह लेने के लिए मुझसे संपर्क करते हैं। सुझाव देने में कोई बुराई नहीं है। मैं इससे ज्यादा और कोई सफाई नहीं देना चाहता।’

यह भी पढ़ें : सेना ने मार गिराए हिजबुल के दो आतंकी, एक की पूर्व जवान के रूप में हुई पहचान


BY : Ankit Rastogi


Loading...