खेल - सिडनी टेस्ट : खराब मौसम ने बिगाड़ा खेल, तीसरे दिन ऑस्ट्रेलिया ने बनाए 236/6

सिडनी टेस्ट : खराब मौसम ने बिगाड़ा खेल, तीसरे दिन ऑस्ट्रेलिया ने बनाए 236/6



Posted Date: 05 Jan 2019

31
View
         

सिडनी। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में जारी बॉर्डर-गावस्कर सीरीज के चौथे और आखिरी टेस्ट मैच में मेजबान कंगारु टीम संकट में नज़र आ रही है। भारत के पहली पारी के विशाल स्कोर के सामने उसने मैच के तीसरे दिन शनिवार को स्टंप्स तक छह विकेट के नुकसान पर 236 रन बना लिए हैं। भारत ने दूसरे दिन सात विकेट के नुकसान पर 622 रनों पर अपनी पहली पारी घोषित की थी। आस्ट्रेलिया भारत से अभी भी 386 रन पीछे है और उस पर फॉलोऑन का खतरा भी मंडराने लगा है।

इससे पहले खराब रोशनी के चलते अंपायरों ने खेल को बीच में ही रोक दिया। इसके बाद बारिश ने रही-सही कसर पूरी कर दी और दिन का खेल 16.3 ओवर पहले ही समाप्त घोषित किया गया। दिन का खेल समाप्ति की घोषणा तक पीटर हैंड्सकॉम्ब 28 और पैट कमिंस 25 रन बनाकर खेल रहे हैं।

आस्ट्रेलिया ने दिन की शुरुआत बिना किसी नुकसान के 24 रनों के साथ की थी। दिन के पहले सत्र में ही आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज विकेट पर टिकने का धैर्य दिखा सके। पहले सत्र में मेजबान टीम ने उस्मान ख्वाजा (27) के रूप में एक मात्र विकेट खोया।

दूसरे सत्र में हालांकि भारतीय गेंदबाजों ने वापसी की और चायकाल तक आस्ट्रेलिया का स्कोर पांच विकेट पर 198 रन कर दिया। इस सत्र में आस्ट्रेलिया ने चार विकेट गंवाए जिनमें से सबसे अहम मार्कस हैरिस का विकेट रहा जिन्होंने टीम के लिए सबसे ज्यादा 79 रन बनाए। उनकी पारी का अंत रवींद्र जडेजा ने बोल्ड कर किया। हैरिस ने अपनी पारी में 120 गेंदों का सामना कर आठ चौके मारे।

यह भी पढे़ं.. सचिन पर टूटा दुखों का पहाड़, इस बेहद करीबी शख्स ने छोड़ा साथ

आखिरी सत्र में मेजबान टीम ने एक विकेट खोया। दिन का खेल खत्म होने में 16.3 ओवरों का खेल बचा था कि तभी खराब रोशनी के चलते खेल रोक दिया गया।

बाद में बारिश के चलते दिन का खेल खत्म करने की घोषणा कर दी गई। हैरिस के अलावा आस्ट्रेलिया के लिए मार्नस लाबुस्शाने ने 38, ट्रेविस हेड ने 20 रनों का योगदान दिया। भारत के लिए कुलदीप यादव ने अभी तक तीन विकेट लिए हैं। जडेजा को दो तो मोहम्मद शमी को एक विकेट मिला है।

यह भी पढ़ें.. ...तो इस वजह से कोहली का नाम इतिहास के पन्नों पर सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा!


BY : shashank pandey