राष्ट्रीय - भाजपा के काफिले पर हमला, समर्थकों से की मारपीट, तोड़ी गाड़ियां

भाजपा के काफिले पर हमला, समर्थकों से की मारपीट, तोड़ी गाड़ियां



Posted Date: 06 Nov 2018

23
View
         

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ में एक ऐसा मामला सामने आया, जिसे देख सभी सन्न रह गए। यहां गांव वालों ने पूर्व नियोजित एक योजना के तहत भजपा नेता को निशाना बनाया। इस दौरान उग्र लोगों ने ना केवल भाजपा समर्थकों के साथ मारपीट की, बल्कि उनकी गाड़ियां भी तोड़ीं। इस हमले को देखते हुए उन्हें प्रशासन द्वारा सुरक्षा मुहैया करवाई गई है।

बात कर रहे हैं भाजपा प्रत्याशी रामदयाल उइके की। रामदयाल कोरबा के पानी तानाखार विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी है।

खबरों के मुताबिक़ रविवार (4 नवंबर) की रात अपने समर्थकों के साथ क्षेत्र में चुनाव प्रचार कर शिवपुर गांव से वापस लौट रहे थे। इस दौरान कुछ ग्रामीणों ने पेड़ काटकर सड़क बाधित कर दिया और उनके काफिले को रोक दिया।

इसके बाद ग्रामीणों ने काफिले की गाडि़यों को क्षतिग्रस्त कर दिया। साथ ही उनके समर्थकों के साथ भी मारपीट की गई।

वहीं, रामदयाल उइके ने आरोप लगाया कि ये ग्रामीण नहीं, बल्कि गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के समर्थक हैं। उन्होंने कहा, “जब हम प्रचार कर शिवपुर से लौट रहे थे, तभी गणतंत्र पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उन्हें घेर लिया। कांटे व झाडि़यां डालकर उनका रास्ता रोक दिया। हमारे साथ गाली-गलौच भी की गई। हमारे कार्यकर्ताओं को निशाना बनाते हुए पत्थर भी फेंके गए।”

उइके की शिकायत के बाद स्थानीय पुलिस और जिला प्रशासन की ओर से उन्हें सुरक्ष मुहैया करवाई गई है।

बता दें कि रामदयाल उइके पहले इसी क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी के विधायक थे। लेकिन आगामी चुनाव से पहले वे भाजपा में शामिल हो गए।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कथित तौर पर रामदयाल के काफिले पर हमला करने वाले ग्रामीण काफी आक्रोशित थे।

ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि उइके को उन लोगों ने क्षेत्र के विकास के लिए विधायक चुना था, लेकिन उन्होंने किसी तरह का विकास कार्य नहीं किया।

मारपीट और गाडि़यों को क्षतिग्रस्त करने के मामले में भाजपा प्रत्याशी रामदयाल उइके के समर्थक ओमप्रकाश जगत ने स्थानीय पाली थाने में ग्रामीणों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया।

यह भी पढ़ें : राम मंदिर पर फैसला मोदी-योगी के बस में नहीं! जानिये क्या रही केशव के इस स्टेटमेंट की वजह

उन्होंने अपनी शिकायत में कहा, “करीब 150 की संख्या में ग्रामीणों ने योजनाबद्ध तरीके से हमारे साथ दुर्व्यवहार किया। हमारा रास्ता रोका और समर्थकों के साथ मारपीट की गई। कई गाडि़यों के शीशे तोड़ दिए गए। इस घटना में हमारे कई कार्यकर्ताओं को गंभीर चोटें आई है।”

मामला दर्ज होन के बाद पुलिस ने शिवपुर गांव के 7 लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।

यह भी पढ़ें : राजस्थान : रेत का जर्रा-जर्रा जानता है 5 सालों में सरकार से हिसाब लेना, जातिगत समीकरण ऐसा कि बदल दे इतिहास


BY : Ankit Rastogi


Loading...