राष्ट्रीय - सेना प्रमुख : ‘सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने का जरिया बन रहा, आतंकवाद कई सिर वाले राक्षस की तरह’

सेना प्रमुख : ‘सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने का जरिया बन रहा, आतंकवाद कई सिर वाले राक्षस की तरह’



Posted Date: 10 Jan 2019

61
View
         

नई दिल्ली। रायसीना डायलॉग के दौरान एक पैनल चर्चा में बोलते हुए सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने आतंकवाद और सोशल मीडिया के मसले पर बड़ा बयान दिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया कट्टरपंथ को फैलाने का जरिया बन रहा है, इसलिए इसे नियंत्रित किए जाने की आवश्यकता है। वहीं रावत ने आतंकवाद को युद्ध का एक नया तरीका बताया। उन्होंने कहा कि आतंकवाद कई सिर वाले राक्षस की तरह अपने पैर पसार रहा है और यह तब तक मौजूद रहेगा जब तक कुछ देश राष्ट्र की नीति के तौर पर इसका इस्तेमाल करना जारी रखेंगे।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, सेना प्रमुख ने कहा कि सोशल मीडिया के जरिए कट्टरपंथ फैलाना चिंता का विषय है क्योंकि कई लोग इस प्लेटफार्म के जरिए कट्टर बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि हमें मीडिया और सोशल मीडिया पर नियंत्रण लगाने के लिए बहुत कुछ करना होगा। इसके लिए अगर किसी एक देश ने भी खास तरह की मीडिया को नियंत्रित करना शुरू कर दिया तो कहा जाएगा कि मीडिया अधिकारों पर लगाम लगाई जा रही है।

इसलिए मुझे लगता है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को एक साथ मिलकर यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सोशल मीडिया के स्रोत को गलत सूचना फैलाने से रोका जाए क्योंकि ज्यादातर फंड उन लोगों से आ रहा है जो कट्टर बनते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया के जरिए कट्टरपंथ आतंकवादी संगठनों द्वारा फंड एकत्रित करने की वजहों में से एक बन रहा है। कट्टर लोग फंड एकत्र करने में आतंकवादी संगठनों की मदद भी कर रहे हैं। सेना प्रमुख ने कहा कि आईएस कुछ अन्य देशों की तरह भारत में अपने पैर नहीं जमा पाया और उन्होंने इसका श्रेय भारत के संपन्न पारिवारिक मूल्यों को दिया।

जनरल रावत ने अफगानिस्तान की शांति प्रक्रिया पर कहा कि तालिबान से बातचीत होनी चाहिए, लेकिन यह बिना किसी शर्त के होनी चाहिए। पाकिस्तान का स्पष्ट जिक्र करते हुए जनरल रावत ने कहा कि कमजोर देश दूसरे देश पर अपनी शर्तें मानने का दबाव बनाने के लिए आतंकवादियों का इस्तेमाल कर रहे हें और उन्होंने ऐसी नीति को बर्दाश्त किए जाने के खिलाफ आगाह किया।

यह भी पढ़ें : राम मंदिर पर नहीं निकल सका कोई हल, 29 जनवरी तक के लिए टला मामला

उन्होंने कहा कि अगर यह चलता रहा तो कुछ देश आतंकवादियों का वित्त पोषण करेंगे और उन्हें उस तरीके से अपनी गतिविधियों को अंजाम देने की अनुमति देंगे जिस तरह वे देना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने हमेशा तालिबान को पनाह दी।

यह भी पढ़ें : क्या खत्म हो पाएगा अयोध्या विवाद? राम मंदिर पर कोर्ट में सुनवाई आज


BY : Indresh yadav