राष्ट्रीय - 2019 में यूपी का किला फतेह करने के लिए ये है बीजेपी का फूलप्रूफ प्लान, हर पहलू पर बारीक नजर

2019 में यूपी का किला फतेह करने के लिए ये है बीजेपी का फूलप्रूफ प्लान, हर पहलू पर बारीक नजर



Posted Date: 05 Nov 2018

49
View
         

लखनऊ। 2019 के आगामी लोकसभा चुनावों के चलते इन दिनों राजनीतिक गलियारों में हलचल का माहौल है। देश की दो प्रमुख पार्टियां कांग्रेस और बीजेपी अपनी-अपनी तैयारियों में जुट चुकी हैं। इन चुनावों में लगभग सभी दलों की निगाहें यूपी पर आकर टिक गई हैं। केंद्र में किसकी सरकार बनेगी यह काफी हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि यूपी में कौन कितनी सीटें जीतेगा।

आम चुनाव 2019 में यूपी की अहमियत समझते हुए यहां अपना झंडा गाड़ने के लिए बीजेपी काफी पहले से ही अपनी तैयारियां शुरु कर चुकी है। उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा के गठबंधन से लेकर यहां की लगभग हर राजनीतिक उथल-पुथल व संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए बीजेपी ने यूपी विजय का फूलप्रूफ प्लान बनाया है।

जमीनी हकीकत को ध्यान में रखते हुए बीजेपी यहां बूथवार तैयारी करने में जुटी है। पार्टी द्वारा वोटर्स का बूथवार वेरफिकेशन करने के अलावा यहां के किसी भी समुदाय में अपनी खास पकड़ रखने वाले छोटे-बड़े सभी नेताओं से मुलाकात की जा रही है।

वहीं सोशल मीडिया के माध्यम से अपने प्रचार को सही दिशा देने के लिए बीजेपी ने लगभग 13500 व्हाट्सऐप ग्रुप्स भी बनाए हैं। इसके अलावा पार्टी द्वारा सरकारी योजनाओं का लाभ पाने वाले करीब तीन करोड़ लोगों की भी सूची तैयार कर, इनसे संपर्क साधकर इनका एकमुस्त वोट अपनी तरफ करने की योजना बनाई गई है।

फिर एकबार मोदी सरकार के नारे के साथ चुनावी मैदान में उतरेगी बीजेपी

बीजेपी इस बार के चुनावों में फिर एकबार मोदी सरकार के नारे के साथ उतरेगी। अभी तक पार्टी का फोकस ट्रेनिंग और संगठन को चुस्त दुरुस्त करना था। कहा जा रहा है कि दिवाली के बाद जमीनी स्तर पर लोगों तक पहुंचने की कोशिश शुरू होगी। इसके लिए बूथ कमिटी मीटिंग आदि का भी आयोजन किया जाएगा। क्योंकि यूपी उप चुनाव में पार्टी को गोरखपुर, फूलपुर और कैराना में झटके का सामना करना पड़ा था।

इसके अलावा, बीजेपी के राजनीतिक विरोधी एसपी, बीएसपी और आरएलडी ने हाथ मिला लिए हैं। पिछली बार एसपी और बीएसपी ने अलग अलग चुनाव लड़ा था। बीजेपी के सातों मोर्चों- महिला, युवा, ओबीसी, एससी, एसटी, किसान और अल्पसंख्यक को राज्य स्तर से लेकर बूथ स्तर तक के कार्य सौंपे गए हैं।

80 लोकसभा सीटों के लिए ये है बीजेपी का बूथवार प्लान

सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी द्वारा 80 लोकसभा सीटों के करीब एक लाख 63 हजार बूथों को चार श्रेणियों ए, बी, सी और डी में बांटा गया है। पार्टी ए कैटिगरी के बूथों को सुरक्षित मानकर चल रही है क्योंकि यहां उसे हमेशा जीत मिली है। बी कैटिगरी वाले बूथों पर बीजेपी अक्सर जीतते रही है। सी कैटिगरी में वे बूथ आते हैं, जहां बीजेपी बहुत कम ही जीती है। डी में वे बूथ आते हैं, जहां बीजेपी को कभी जीत नहीं मिली।

यह भी पढ़ें : MP Election घमासान : बीजेपी की बढ़ीं मुश्किलें, पूर्व सीएम ने की बगावत, कहा- निर्दलीय लड़ूंगा

ऐसे में बीजेपी का अधिक फोकस बूथ सी व डी पर है। यहां पर जीत हासिल करने के लिए बीजेपी द्वारा विकास दूतों को नियुक्त करने की योजना बनाई गई है। ये विकास दूत कोई और नहीं बल्कि उन्हीं लोगों में बनाए जाएंगे जोकि सरकारी योजनाओं की लाभार्थियों की लिस्ट में हैं। इन विकास दूतों के जरिए बीजेपी जमीनी स्तर पर मतदाताओं की रुझान अपनी तरफ करने का प्रयास करेगी।

यह भी पढ़ें : RBI और केंद्र में रार पर हमलावर विपक्ष की एक झटके में होगी बोलती बंद, भाजपा को मिला ब्रह्मास्त्र!


BY : Indresh yadav


Loading...